चार्टर

राष्ट्रीय वित्तीय रिपोर्टिंग प्राधिकरण का चार्टर
    • राष्ट्रीय वित्तीय रिपोर्टिंग प्राधिकरण (एनएफआरए) का उद्देश्य भारत में सभी कारपोरेट वित्तीय रिपोर्टिंग की गुणवत्ता को सतत् रूप से सुधारना है।
    • कारपोरेट वित्तीय रिपोर्टिंग की गुणवत्ता का आवश्यक रूप से कानून तथा सांविधिक रूप से अधिसूचित लेखाकर्म मानक और लेखापरीक्षा मानकों के इसके अनुपालन द्वारा आकलन और मूल्यांकन किया जाएगा।
    • एनएफआरए सभी प्रकार की जनहित कंपनियों (पीआईईएस) तथा लेखापरीक्षा फर्मों की सभी आकार की श्रेणियों की कारपोरेट वित्तीय रिपोर्टिंग के सतत् सुधार के लिए प्रयास करेगा।
    • एनएफआरए का उद्देश्य सत्यनिष्ठा, उद्योग और सक्षमता के लिए एक विख्यात संगठन बनना है।
    • एनएफआरए के लिए कार्य करने वाले व्यक्ति, को अटल सत्यनिष्ठा के उच्चतम मानकों का अनुपालन, कारपोरेट वित्तीय रिपोर्टिंग की गुणवत्ता के रूपांतरण का एक विजन, और अपने कार्य के प्रति पहल के उच्चतम स्तर और अथक प्रयास प्रदर्शित करना होगा।

  • एनएफआरए इस बात के लिए प्रयासरत है:

      • वस्तुनिष्ठता – सदस्यों अथवा कर्मचारियों दोनों से कोई व्यक्तिपरक कार्यवाही अपेक्षित नहीं है, किसी पूर्व अवधारणा के बिना सभी तथ्यों/विचारों/राय अथवा किसी मामले में पूर्व निर्णय के संबंध में खुलापन।
        • सत्यनिष्ठा – सभी मुकदमों/व्यक्तियों/फर्मों, बहुमानकों का अभाव, उन सभी के साथ एकसमान व्यवहार जो सदृश/समान हैं।
          • निष्पक्षता – अपने कार्यों का निवर्हन बिना भय अथवा पक्षपात के करना।
            • स्वतंत्रता – सभी हितधारकों से समान दूरी बनाए रखना।
              • सद्व्यवहार – अनुचित भार विशेष रूप से दूरदर्शी लाभ के लिए नहीं डालना।
                • पारदर्शिता – उचित और मुक्त प्रक्रियाएं

              • एनएफआरए का कार्य सभी समय व्यापार कार्य की आसानी और त्वरित गति को बढावा देने की आवश्यकता का ध्यान रखना होगा तथा इसके सभी कार्य समग्र रूप से सदैव सार्वजनिक हित द्वारा मार्गदर्शित और अपने विधिक अधिदेश के भीतर ही संपोषित होंगे।